img

 

नई दिल्ली। 

विराट कोहली की कप्तानी में भारतीय क्रिकेट टीम ने ऑस्ट्रेलिया में इतिहास रचा और पहली बार किसी द्विपक्षीय वनडे सीरीज में जीत हासिल की। मेलबर्न में खेले गए तीसरे वनडे मैच में सात विकेट से जीत हासिल करते ही भारत ने ये उपलब्धि अपने नाम कर ली। तीसरे वनडे में भारत को धौनी और केदार जाधव ने अपनी बल्लेबाजी के दम पर कमाल की जीत दिलाई और टीम इंडिया ने तीन मैचों की वनडे सीरीज को 2-1 से जीतकर खिताब अपने नाम किया। 

मेलबर्न में खेले गए तीसरे वनडे में भारत ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का फैसला किया। मेजबान टीम ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 48.4 ओवर में 230 रन बनाए। भारत को जीत के लिए 231 रन का लक्ष्य मिला था जिसे टीम इंडिया ने सात विकेट शेष रहते 49.2 ओवर में ही हासिल कर लिया। धौनी 87 रन बनाकर नाबाद रहे जबकि केदार जाधव 57 रन बनाकर नाबाद पवेलियन लौटे। इन दोनों के बीच नाबाद 121 रन की साझेदारी हुई। धौनी को उनकी शानदार बल्लेबाजी के लिए मैन ऑफ द सीरीज चुना गया जबकि युजवेंद्र चहल को उनकी घातक गेंदबाजी के लिए मैन ऑफ द मैच चुना गया।  

चहल ने कंगारू बल्लेबाजों की बोलती बंद की

इस मैच में पहले बल्लेबाजी करते हुए कंगारू टीम 230 रन पर ऑल आउट हो गई। पहली पारी में कंगारू ओपनर बल्लेबाज एलेक्स कैरी पांच रन बनाकर आउट हो गए तो लगातार फ्लॉप चल रहे बल्लेबाज एरोन फिंच भी 14 रन पर ही भुवी का शिकार बने। इसके बाद उस्मान ख्वाजा और मार्श के बीच 73 रन की साझेदारी हुई लेकिन इन दोनों को चहल ने एक ही ओवर में आउट कर दिया और मेजबान टीम को जोरदार झटका दिया। ख्वाजा 34 रन जबकि मार्श 39 रन बनाकर आउट हुए। इसके बाद पीटर हैंड्सकौंब ने ऑस्ट्रेलियाई पारी को संभाला और उन्होंने 58 रन का योगदान दिया। वो भी चहल का शिकार बने। टीम के अन्य बल्लेबाज मैक्सवेल, स्टॉयनिस, रिचर्डसन, जंपा व स्टेनलेक कुछ खास नहीं कर पाए। 

भारत की तरफ से चहल ने घातक गेंदबाजी करते हुए कुल छह विकेट लिए जबकि तेज गेंदबाज शमी व भुवी ने दो-दो विकेट लिए।