img

 

हिमाचल प्रदेश में जनजातीय जिला किन्नौर में एक बार फिर खाकी पर अंगुली उठने लगी है. मामला यह है कि गुरूवार की रात को हिमाचल पॉवर कॉरपोरेशन में कार्यरत कर्मचारी खाना खाकर वापिस अपने रूम को जा रहा था और रात्रि गश्त कर रहे पुलिस जवानों ने उक्त कर्मचारी के साथ मारपीट की.

पुलिस जवानों द्वारा हिमाचल पावर कॉरपोरेशन के कर्मचारी के साथ की गई मारपीट पर गुस्साए हिमाचल पावर कॉरपोरेशन इंजिनीयर वेलफेयर एसोसिएशन के डीसी किन्नौर और एसपी किन्नौर को ज्ञापन सौंपा. रात्रि गश्त के दौरान जिन पुलिस जवानों ने कर्मचारियों के मारपीट की उनके विरूद्ध सख्त कार्यवाही की जाए और पावर प्रोजेक्ट में दिन रात काम होता है. ऐसे में कर्मचारियों की सुरक्षा करना पुलिस का काम है.

हिमाचल पावर कॉरपोरेशन इंजिनीयर वेलफेयर एसोसिएशन के अध्यक्षक दीपक नेगी ने न्यूज 18 हिमाचल से रू ब रू होते हुए कहा कि हिमाचल पावर कॉरपोरेशन के कर्मचारी तीन शिफ्टों में काम करते हैं इसलिए रात को देर से आना जाना होता है. ऐसे में अगर रक्षक ही भक्षक बन जाए तो किस प्रकार पावर प्रोजेक्ट में काम होगा.

उन्होंने बताया कि किन्नौर पुलिस को जब भी वाहनों की जरूरत होती है हिमाचल पावर कॉरपोरेशन मुहैया करवाती है. पीड़ित रमण काकर ने भी बताया कि खाना खाकर वापिस रूम जाते समय पुलिस जवानों ने पूरी जानकारी देने के बाद भी मारपीट की.