img

नई दिल्ली। 

वर्ल्ड कप में बेहतरीन प्रदर्शन के सात महीने बाद भारतीय महिला क्रिकेट टीम दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ सोमवार से शुरू होने वाली तीन वनडे मैचों की सीरीज में उतरेगी जो कि आईसीसी महिला चैंपियनशिप के पहले दौर का कार्यक्रम का हिस्सा है.

इस सीरीज से दोनों टीमों को 2021 आईसीसी महिला वर्ल्ड कप के लिए सीधे क्वालिफाई करने का मौका भी मिलेगा.

किम्बरले में पांच और सात फरवरी को पहले दो वनडे होंगे जबकि तीसरा वनडे दस फरवरी को पोटचेफ्सट्रूम में खेला जाएगा.

बीसीसीआई की लचर रणनीति के कारण मिताली राज और उनकी टीम ने वर्ल्ड कप के बाद कोई अंतरराष्ट्रीय मैच नहीं खेला है और अब उनके सामने सबसे बड़ी चुनौती वापस लय हासिल करने की होगी.

वर्ल्ड कप के बाद महिला क्रिकेट के प्रति लोगों को आकर्षण बढ़ा है और मिताली अपनी बढ़ी हुई जिम्मेदारियों को अच्छी तरह से समझती हैं.

मिताली ने कहा, ‘हर मैच पर लोगों, आलोचकों और हर किसी की निगाह टिकी रहेगी, क्योंकि अब लोगों ने महिला क्रिकेट और भारतीय टीम के वास्तविक स्तर को समझ लिया है.’

भारतीय कप्तान भी विश्व कप के बाद कई प्रचार कार्यक्रमों में व्यस्त रही और उन्होंने महिलाओं की राष्ट्रीय एकदिवसीय चैंपियनशिप के कुछ मैचों में ही हिस्सा लिया.

मिताली ने कहा, ‘मैं अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेलने के लिए बेताब हूं. विश्व कप के बाद यह हमारा पहला दौरा है. एक अच्छी टीम के खिलाफ चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों में खेलना अच्छा है.’

मुंबई की 17 वर्षीय जेमिमा रोड्रिग्ज पर सभी की निगाह रहेगी. उन्होंने घरेलू क्रिकेट में लगातार अच्छा प्रदर्शन किया.

भारत वर्ल्ड कप में भले ही उप विजेता रहा था लेकिन लीग चरण में उसे दक्षिण अफ्रीका से 115 रन से हार का सामना करना पड़ा था.

दक्षिण अफ्रीका की 24 वर्षीय कप्तान डेन वान नीकर्क ने कहा, ‘मुझे विश्वास नहीं हो रहा है कि इसे छह महीने हो गए हैं. ऐसा लग रहा है जैसे यह कल की बात हो. मुझे लगता है कि हमारी अधिकतर खिलाड़ी ऐसा सोचती होंगी.’